ट्रस्टीशिप का सिद्धांत

ट्रस्टीशिप का सिद्धांत 1860 के बाद british शासन ने भारत में अपने आप को स्वराज का शिक्षक कहने के स्थान पर अपने को ट्रस्टी कहना शुरू कर दिया इसका तात्पर्य यह था की अंग्रेज भारत के साधनों का प्रवंधन इस तरीके से करेंगे की भारतीयों की अधिकतम भलाई हो सके . ट्रस्टीशिप का दावा इस …

Read moreट्रस्टीशिप का सिद्धांत