karak in hindi | कारक की परिभाषा ,उद्धाहरण सहित

कारक की परिभाषा :-

karak in hindi..

वाक्य में जिससे संज्ञा ,सर्वनाम ,शब्दों का क्रिया के साथ सम्बन्ध बताया जाता है उसे कारक कहते है

कारक से जुड़े तथ्य :-

  • जिसका क्रिया से सीधा सम्बन्ध हो
  • काराक की संख्या हिंदी में 8 और संस्कृत में 6 होती है
  • सम्बन्ध वा संबोधन को कारक नहीं माना जाता है
  • संबोधन व कर्ता कारक दोनों में प्रथमा विभक्ति होती है
  • विभक्ति की कुल संख्या 7 होती है
  • कारक चिन्ह का दूसरा नाम परसर्ग भी होता है

कारक एवं कारक चिन्ह , विभक्ति :-

कारक कारक चिन्ह विभक्ति
कर्ता ने प्रथमा
कर्म को द्धितीमा
कारण से,के द्धारा तृतीया
सम्प्रदान के लिए , साथ चतुर्थी
अपादान से,अलग होना (प्रथक )पञ्चमी
सम्बन्ध का,की,के षष्टी
अधिकरण में,पै,पर सप्तमी
संबोधन हे,ओ,ए ,अरे प्रथमा
कारक एवं कारक चिन्ह , विभक्ति

karak के भेद :- 8

  1. कर्ता कारक
  2. कर्म कारक
  3. कारण “
  4. सम्प्रदान “
  5. अपादान”
  6. सम्बन्ध”
  7. अधिकरण”
  8. संवोधन “

कर्ता कारक :-

  • कार्य को करने वाला अर्थात जो स्वतंत्र रहकर किसी कार्य को संपन्न करता है उसे कर्ता कारक कहते है \
  • कर्ता कारक के लिए ने परसर्ग का प्रयोग होता है
  • कर्ता कारक में प्रथमा विभक्ति होती है
  • भूतकाल की क्रिया के साथ कर्ता में ने कारक चिन्ह का प्रयोग होता है

कर्ता कारक के उद्धाहरण –

  1. राम ने रावन को मारा
  2. मोहन ने पुस्तक लिखी
  3. मोहन पुस्तक पढ़ता है
  4. वे घूमने जायेंगे
  5. सीता गीत गाती है
  6. राम पढता है

कर्म karak:-

  • कर्ता जिस कार्य को सबसे पहले करता है उसे कर्म कारक कहते है
  • कर्ता के लिए जो कार्य अभीष्ट हो , ईष्ट हो अर्थात जिसे कर्ता सबसे ज्यादा पसंद करता हो उसे कर्म कारक कहते है
  • कर्म दो प्रकार का होता है 1- प्रधान कर्म -मुख्य कर्म, 2- अप्रधान कर्म -गौण कर्म

कर्म कारक के उद्धाहरण –

  1. राम गाव में जाता हुआ फुल तोड़ता है इसमें गाव प्रधान कर्म है और फुल अप्रधान कर्म है
  2. राम ने रावन को मारा |
  3. शीला चाकू से फल काटती है
  4. नीरज जी केले को खाते है
  5. मोर सापों को खा गया
  6. मै पुस्तक पढता हूँ

करण कारक :-

  • करण का दूसरा नाम साधन ,हेतु,कारण भी होता है
  • कर्ता किसी कार्य को करते समय जिन साधनो का प्रयोग करता है उसे करण कारक कहते है
  • करण कारक में तृतीय विभक्ति तथा , से, के द्धारा कारक चिह का प्रयोग होता है

करण karak के उद्धाहरण –

  1. राम ने रावण को वाण से मारा |
  2. आप रजिस्टर पर पेन से हिंदी लिखते हो |
  3. मीरा चाकू से सब्जी कटती है
  4. मोहन अध्यापक से हिंदी पढता है — अपादान कारक
  5. शीला वाजार से अमरुद लाई — अपादान कारक
  6. तुलसीकृत रामचरितमानस रचना है
  7. सूरचरित ,सूरसागर हिंदी साहित्य का काव्य है

सम्प्रदान कारक :-

  • जिसके लिए कार्य किया जाए सम्प्रदान कारक
  • जो वस्तु हमेशा- हमेशा के लिए दी जाए जिसको दी जाती है उसमे सम्प्रदान कारक होता है
  • शिक्षा , भिक्षा , दीक्षा , दान , दक्षिणा , भेट , उपहार, गिफ्ट के रूप में दी गई वस्तु वस्तु के बदले कुछ नहीं लिया गया हो अतः उहाँ सम्प्रदान कारक होगा
  • जो वस्तु रुचिकर लगे , अच्छी लगे |

सम्प्रदान कारक के उद्धाहरण :-

  1. राम ने रावण को सीता के लिए मारा |
  2. राजा ने ब्राहमण को गाय दान में दी
  3. मुझे लड्डू बहुत पसंद है
  4. सेठ जी ने गरीवो को कम्बल दिए
  5. भारत ने नेपाल की आर्थिक मदद की
  6. शीला अपनी वहन के लिए साड़ी लाई
  7. आप भर्ती होने के लिए हिंदी पढ़ते हो
  8. मै बच्चो के लिए हिंदी लिख रहा हूँ
  9. मैंने धोवी को कपडे धोने के लिए दिए

अपादान कारक :-

  • जहाँ से किसी वस्तु का अलग होना पाया जाये
  • जब कोई व्यक्ति ,प्राणी , वस्तु , पदार्थ ,अपने जन्म स्थान ,उत्त्पति स्थान ,आधार से पूर्णतया अलग हो जाए उहाँ अपादान कारक होगा
  • जिससे डर या भय लगता हो
  • जिससे तुलना की जाए
  • जिस तिथी ,दिन ,माह ,वर्ष , से कार्य आरभ्भ हो
  • जिससे ईष्या की जाए

अपादान कारक के उद्धाहरण –

  1. पेड़ से पत्ते गिरते है
  2. राधा जयपुर से अजमेर गई
  3. आप शेर से डरते है
  4. मोहन शोहन से अधिक बुद्धिमान है
  5. बच्चे अपर्चितो से शर्माते है

सम्बन्ध कारक :-

  • जब किसी एक संज्ञा या सर्वनाम का दुसरी संज्ञा या सर्वनाम के साथ सम्बन्ध बताया जाए उहाँ सम्बन्ध कारक होता है

सम्बन्ध कारक के उद्धाहरण –

  1. यशोदा कृष्णा की माता है
  2. राजा दशरथ राम के पिता थे
  3. यह मेरा भाई है
  4. ये मेरी पुस्तक है

अधिकरण कारक :-

जिस आधार , प्लेटफार्म ,स्थान पर कार्य संपन्न हो

अधिकरण कारक के उद्धाहरण –

  1. राम गाँव में जाता है
  2. चिड़ियाँ पेड पर वैठी है
  3. मै पलंग पर सोता हूँ
  4. आप दिन में नहीं सोते
  5. मै रात होने पर खाना नहीं खाता

संबोधन कारक :-

  • विस्मय वोधक चिह्न का प्रयोग होता है
  • जिसको बुलाया जाए, पुकारा जाए ,याद किया जाए

संबोधन कारक के उद्धाहरण –

  1. हे छात्रो ! आप परीक्षा में सफल अवश्य होगें
  2. अजी ! आप तो सुनते नहीं हो

karak in hindi..

करण और अपादान में अंतर :-

करण और अपादान दोनों में से चिन्ह का प्रयोग होता है किन्तु इन दोनों में मुलभुत अंतर है करण क्रिया का साधन या उपकरण है कर्ता कार्य संपन्न करने के लिए जिस उपकरण या साधन का प्रयोग करता है ,उसे करण कहते है जैसे – मै कलम से लिखता हूँ यहाँ पर कलम लिखने का उपकरण है अतः कलम शब्दों का प्रयोग करण कारक में हुआ है |

अपादान में अपाय (अलगाव ) का भाव निहित है जैसे – पेड़ से पत्ता गिरा | अपादान कारक पेड़ में है पत्ते में नही |जो अलग हुआ है उसमे अपादान कारक नहीं माना जाता है अपितु जहाँ से अलग गुआ है उसमे अपादान कारक होता है पेड़ तो अपनी जगह स्थिर है पत्ता अलग हो गया अतः ध्रुव वस्तु में अपादान होगा जैसे – वह गाव से चला गया | यहाँ गाव में अपादान कारक है

अवश्य पढ़े – समास की सम्पूर्ण जानकारी | परिभाषा उदाहरण सहित और pdf

कारक के बारे में और अधिक जानकारी – https://www.mycoaching.in/2018/09/karak-hindi.html

abhishekyadav

मेरा नाम अभिषेक यादव, में uppcs की तैयारी करता हूँ हम इस ब्लॉग पर uppcs के सारे विषय पर post डालता हूँ

Recent Posts

प्राचीन इतिहास प्रश्नोत्तरी | prachin itihas in hindi

प्राचीन इतिहास प्रश्नोत्तरी.... 1. हड़प्पाकाल का इनमें से कौन सा नगर, तीन भागों में विभाजित था? (a) Lothal/लोथल(b) Mohenjodaro/मोहेंजो दाड़ो(c)…

1 week ago

magadh samrajya | magadh samrajya ka uday | upsssc pet

magadh samrajya :- राजधानी - गिरिव्रज (राजगृह)शासक -बिम्बिसार (मगध का वास्तविक संस्थापक व् हर्यक वंश का प्रथम शासक , बुद्ध…

1 week ago

whale vomit price | व्हेल की उलटी की कितनी कीमत है

whale vomit price.... * इसके एक किलो की कीमत 35 हजार पाउंड यानी 36 लाख रुपये से भी ज्यादा होती…

2 weeks ago

समास की सम्पूर्ण जानकारी | परिभाषा उदाहरण सहित और pdf

समास का शाब्दिक अर्थ :- समास की सम्पूर्ण जानकारी... संक्षेप ,सामानिक पद ,समस्त पद , सम्पूर्ण पद समास की परिभाषा…

2 weeks ago

Today current affairs in hindi | pdf download 2021

Today current affairs in hindi.. question and answer [FAQ] 1.हाल ही में शिक्षा मंत्रालय द्वारा मध्याह्न भोजन योजना के तहत…

3 weeks ago

जैन धर्म का इतिहास क्या है | jainism in hindi

महावीर का जन्म :- Add title जैन धर्म का इतिहास.... श्वेताम्बर की मान्यता के अनुसार -महावीर का जन्म देवनंगा नामक…

3 weeks ago