भूगोल

भारत की झीलें | भारत के जलप्रपात | lakes and water falls of india

दोस्तों आज हम लेकर आये है भारत की झीलें एवं जलप्रपात ( lakes and water falls of india ) बहुत ही सरल तरीके से बताया गया है अगर पसंद आये तो कमेंट जरुर करना और इस पेज को जब आप खोलते हो तो एक allow मागंता होगा उसे भी कर लेना जिससे मेरी कोई नई post आती है तो आपको नोटीफिकेसन आ जायगा |

भारत की झीलं का जल स्थिर भाग होता है जो चारों तरफ से स्थलखंडों से घिरा होता है। भारत में कई प्राकृतिक एवं मानव निर्मित झीलें पाई जाती हैं। मानव निर्मित झीलों में बहुउद्देशीय परियोजनाओं के अंतर्गत बनाये गए जलाशयों को सम्मिलित किया जाता है, वहीं प्राकृतिक झीलों को कई वर्गों में बाँटा गया है

• विवर्तनिक झीलें- इसका निर्माण धरातल के उठने अथवा. धँसने से होता है, जैसे कश्मीर की वूलर झील तथा कुमाऊँ हिमालय में स्थित अनेक झीलें इसके उदाहरण हैं।

• लैगून अथवा अनूप झीलें- इसका निर्माण तब होता है जब समुद्र जल का कुछ भाग बालू, चट्टान अथवा प्रवाल भित्ति के द्वारा मुख्य जल से अलग हो जाता है। कुछ झीलें सँकरे जलीय भागों द्वारा समुद्र से जुड़ी होती हैं, जैसे- चिल्का, पुलिकट, वेंबनाद, अष्टमुदी इसके उदाहरण हैं। • हिमानी निर्मित झीलें- ये हिमनद अथवा हिमानी के अपरदन से निर्मित होती हैं, उदाहरण के तौर पर नैनीताल, राक्षसताल, खुरपाताल, रूपकुंड इत्यादि भारत की झीलें हिमानी निर्मित हैं।

• वायु द्वारा निर्मित झीलें- हवाओं के प्रवाह एवं अपरदन से निर्मित झीलें इस श्रेणी के अंतर्गत आती हैं। इन झीलों को ‘प्लाया’ भी कहते हैं। ये मुख्यतः लवणीय झीलें होती हैं। राजस्थान की भारत की झीलें अधिकांश इसी श्रेणी की हैं, जैसे- सांभर, डीडवाना, पंचभद्रा, लूणकरणसर इत्यादि।

• डेल्टाई झीलें- ये झीलें डेल्टाई प्रदेशों में नदी वितरिकाओं के मध्य निर्मित होती हैं, जैसे- कोलेरू झील (कृष्णा-गोदावरी डेल्टा)

• ज्वालामुखी क्रिया से निर्मित झील क्रेटर झील- महाराष्ट्र की बुलढाणा जिले की ‘लोनार झील’ क्रेटर झील है।

भारत की झीलें…

प्रमुख झीलें

लोकटक झील-मणिपुर

• यह उत्तर-पूर्वी भारत की सबसे बड़ी मीठे पानी की झील है।

• इस पर तैरते हुए द्वीप पाये जाते हैं, जिन्हें स्थानीय भाषा में ‘फुमदी’ कहते हैं।

• इसमें विश्व का एकमात्र तैरता हुआ उद्यान ‘केबुल-लामजाओ नेशनल पार्क’ अवस्थित है।

• यह संगाई हिरण का एकमात्र प्राकृतिक आवास है।

• अपनी उत्पादकता एवं जैव विविधता के कारण ‘मणिपुर की जीवन रेखा’ कहलाती है।

• यह रामसर आर्द्र भूमि सूची तथा ‘मोंट्रेक्स रिकॉर्ड’ के अंतर्गत शामिल है।

• लोकटक जलविद्युत परियोजना से इसकी जैव विविधता तथा पारिस्थितिकी पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है।

पुलिकट झील

• आंध्र प्रदेश तथा तमिलनाडु की सीमा पर अवस्थित है। यह लैगून झील के अंतर्गत आती है।

• श्रीहरिकोटा द्वीप इस झील को बंगाल की खाड़ी से अलग करता है। ‘सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र’ इसी द्वीप पर अवस्थित है।

वेंबनाद झील

• यह केरल में स्थित लैगून झील है। यह भारत की सबसे लंबी मानी जाती है, जिसकी लंबाई लगभग 96 किमी. है।

• यह रामसर आर्द्र भूमि की सूची के अंतर्गत सम्मिलित है। इस झील में केरल की लगभग 10 नदियाँ अपना मुहाना बनाती हैं, जिसमें पंबा और पेरियार प्रमुख हैं।

• वेबनाद झील में दो द्वीप वेलिंगटन तथा वल्लारपदम् हैं। ‘नेहरू ट्रॉफी नौकायन प्रतियोगिता’ प्रतिवर्ष ओणम पर्व के अवसर पर आयोजित की जाती है, जिसे स्थानीय भाषा में ‘वल्लामकली’ कहते हैं।

भारत की झीलें…

चिल्का झील

• यह उत्तरी सरकार तट (ओडिशा) में अवस्थित भारत की सबसे बड़ी लैगून एवं खारे पानी की झील है। यह रामसर आर्द्र भूमि सूची के अंतर्गत शामिल है।

• यहाँ पर अनेक द्वीप अवस्थित हैं, जिनमें ‘नालाबान द्वीप’ प्रमुख हैं। यह जैव विविधता एवं पारिस्थितिकीय दृष्टिकोण से अत्यंत धनी है।

• जाड़े की ऋतु में यहाँ बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी आते हैं। मानवीय गतिविधियों के कारण इसकी जैव विविधता को अत्यधिक नुकसान पहुँचा है।

• यहाँ पाये जाने वाले संकटग्रस्त जीवों में ग्रीन सी टर्टल, इरावदी डॉल्फिन, ड्यूगोंग, ब्लैकबक, फिशिंग कैट प्रमुख हैं।

मानव निर्मित झीलें

• गोविंद बल्लभ पंत सागर- उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जनपद में सोन की सहायक नदी रिहंद पर निर्मित।

• स्टेनले जलाशय-तमिलनाडु में कावेरी नदी पर निर्मित मेटूर बांध के पीछे बनी झील।

• पेरियार झील केरल में पेरियार नदी पर निर्मित।

• गोविंद सागर झील-हिमाचल प्रदेश में भाखड़ा बांध के पीछे सतलुज नदी पर निर्मित झील।

• राणा प्रताप व जवाहर सागर (राजस्थान) तथा गांधी सागर (मध्य) प्रदेश) चंबल नदी पर निर्मित।

• नागार्जुन सागर-कृष्णा नदी पर आंध्रप्रदेश और तेलंगाना की सीमा पर अवस्थित

जलप्रपात (Water falls)

• जब नदी का जल किसी स्थान पर खड़े ढाल (क्लिफ) के ऊपरी भाग से अत्यधिक तीव्र गति से नीचे की ओर गिरता है तो उसे ‘जल प्रपात’ की संज्ञा दी जाती है।

  • भारत के अधिकांश जलप्रपात पठारी प्रदेश में पाए जाते है क्योकि यहाँ की भू-आकृति अत्याधिक ऊँची-नीची तथा शैलें कठोर होती है |

राज्य एवं प्रमुख झीलें

उत्तराखंड- नैनीताल, भीमताल, नौकुछियाताल, खुरपाताल, रूपकुंड

गुजरात- नल सरोवर, नारायण सरोवर, कंकरिया,

हरियाणा- सूरजकुंड

पंजाब –कांजलि, हरिके, रोपड़

राजस्थान- पिछोला, सांभर, पंचपद्रा, राजसमंद, जयसमंद, डीडवाना, पुष्कर, फतेह सागर, उदय सागर ।

जम्मू-कश्मीर– डल, वूलर, अनंतनाग, नागीन, बेरीनाग, शेषनाग –

लद्दाख- मैंगोंग सो, सोमोरिरी

मेघालय- उमियम –

मणिपुर- लोकटक

मिज़ोरम- पाला

सिक्किम- गुरुडोंगमर, चोलामू

केरल- वेबनाद, अष्टमुदी (लैगून झील), सस्थमकोट्टा

कर्नाटक- बेलांदूर, पंपा सरोवर

तमिलनाडु- बेरीजाम, ऊटी, कोडाइकनाल, चेम्बरमबक्कम् तेलंगाना- हुसैन सागर, उस्मानसागर, हिमायत सागर

असम- दिपोर बील, सोन बील, हॉफलांग

महाराष्ट्र- लोनार, पवई, गोरेवाड़ा, सलीम अली सरोवर

आंध्र प्रदेश- कोलेरू

भारत की मुख्य जलप्रपात ( भारत के जलप्रपात )

जलप्रपात नदी राज्य
महात्मा गांधी / गरसोप्पा जलप्रपात शरावती नदी
धुआंधार जलप्रपात नर्मदा नदी
डूडूमा जलप्रपात मच्छ्कुंड नदी
गोकाक जलप्रपात घाटप्रभा नदी
चूलिया जलप्रपात चंबल नदी
चित्रकूट जलप्रपात इन्द्रावती नदी
हुन्डरु जलप्रपात स्वर्णरेखा नदी
दूध सागार जलप्रपात मांडवी नदी
चचाई जलप्रपात बीहड़ नदी
शिवसमुद्रम जलप्रपात कावेरी नदी
कुंचिकल जलप्रपात वाराही नदी
भारत के जलप्रपात
note-  
कांगो - कांगो या जायरे नदी अफ्रीका महाद्धुप की दूसरी सबसे लम्बी नदी है | यह नदी दो बार भूमध्य रेखा को पार करती है 
नील - नील नदी का उदगम भूमध्य रेखा पर स्थित विक्टोरिया झील से होता है | यह उत्तर की ओर बहते हुए कर्क रेखा को भी पार करती है , इस तरह नील नदी भूमध्यरेखा एवं कर्क रेखा दोनों से सम्बंधित है |
लिम्पोपो - अफ्रीका महाद्धीप के दक्षिण भाग में अपवाहित होने वाली लिम्पोपो नदी मकर रेखा को दो बार पार करती है 
माही - मध्य प्रदेश के धार जिले में विद्य श्रेणीयों से निकलने वाली माहि नदी कर्क रेखा को दो बार कटे हुए मध्य प्रदेश , राजस्थान , गुजरात  में बहकर खंभात की खाड़ी में गिरती है |

FaQ.

1 निम्नलिखित मे से कौन सी एक कृत्रिम झील है
a) कोडाईकनाल b) कोल्लेरू c) नैनीताल d) रेणुका

ans. a

2 सूरज कुण्ड झील कहा स्थित है
a) गुजरात b) up c) हरियाणा d) केरल

ans. c

3 दूध सागर जलप्रपात किस नदी पर है
a) कावेरी नदी b) चंबल नदी c) घाटप्रभा नदी d) माडवी नदी पर

ans. d

अवश्य पढ़े – https://uppscexams.com/bharat-ki-nadiya-map-in-hindi/

abhishekyadav

मेरा नाम अभिषेक यादव, में uppcs की तैयारी करता हूँ हम इस ब्लॉग पर uppcs के सारे विषय पर post डालता हूँ

View Comments

Recent Posts

संज्ञा (sangya) | संज्ञा की परिभाषा | संज्ञा के भेद और उदाहरण | noun in hindi

संज्ञा की परिभाषा ( sangya ki paribhasha ) किसी वस्तु ,व्यक्ति, स्थान, प्राणी, भाव, अवस्था के नाम को संज्ञा कहते…

2 weeks ago

bharat ki nadiya map in hindi | भारत की नदियाँ | river in hindi

दोस्तों आज हम लेकर आये है आपके लिए bharat ki nadiya map in hindi एक -एक करके सारी मुख्य नदियों…

3 weeks ago

shabd ke bhed | शब्द के भेद | तत्सम ,तदभव ,देशी/विदेशी और संकर शब्द

दोस्तों आज हम इस post के मद्ध्यम से शब्द के भेद पढेंगे इसकी जानकारी होना बहुत जरुरी है अगर आप…

4 weeks ago

मध्यकालीन भारत का इतिहास प्रश्नोत्तरी pdf | मध्यकालीन इतिहास प्रश्नोत्तरी upsssc pet

मध्यकालीन भारत का इतिहास प्रश्नोत्तरी.... 1. मुहम्मद गोरी किस वर्ष पृथ्वीराज तृतीय से पराजित हुआ था? (a) 1471 (c) 1391…

1 month ago

हर्षवर्धन का शासन काल | हर्षवर्धन का उदय | गुप्तोत्तर काल | harshvardhan ka shaasan kaal

हर्षवर्धन का शासन काल ... बिहार बाद हार और उत्तर प्रदेश स्थित केंद्र से, गुप्त ने उत्तर एवं पश्चिम भारत…

1 month ago

गुप्त साम्राज्य | गुप्त काल का इतिहास |

दोस्तों आज हम लेकर आये है गुप्त साम्राज्य का इतिहास pet के लिए भी है ये ....... साम्राज्य के पतन…

1 month ago