डच, डेनिस ,फ्रेंच कहानी रूप में

डच

प्रथम फेक्ट्री :- मसुलीपतनम में (गोलकुंडा के सुल्तान के फरमान से )

*1610 में डच ने चन्द्रगरी  के राजा की सहयता से पुलिकत/ गोल्द्रिया में व्यापारिक केंद्र स्थापित किया यही से ये अपने पैगोडा (स्वर्ण सिक्का ) जारी करते थे |

*डच ने हिंदुस्तान के इलाके में बड़े साम्राज्य के स्थापना नहीं की |

क्यों नहीं की :- इनका ज्यादा इंटरेस्ट था मसाले के व्यापर में और   मसाला के ख्याल से भारत के व्यापर से ज्यादा मह्तिउपूर्ण था इंडोनेशिया , पुर्तगालियो पे भारी पड रहे थे लेकिन अंग्रेजो से कमजोर थे | इसीलिए इन्होने भारत में ज्यादा साम्राज्य विस्तार नहीं किया

बंगाल :- बंगाल में व्यापर करने के लिए ओरंगजेव ने 3.5 % की चुंगी मागी थी

*डचो ने हिंदुस्तान में साम्राज्य स्थापित नहीं किया था उन्होंने यूरोप -भारत -इंडोनेशिया व्यापारिक लिंक बनाया था डच भारत से माल खरीदते थे और इंडोनेशिया में ले जा कर बेच देते थे और जो मुनाफा होता था उस मुनाफे से इंडोनेशिया से मसाला खरीद कर यूरोप में बेच देते थे

डचो की व्यापारिक बस्तुये

         मसुलिपतनम   ——-   नील 

         आगरा   ————— नील 

         भड़ोच —————– वस्त्र 

                                           वंगाल ———— सूती वस्त्र ,रेसम ,शोरा और अफीम

वेदरा के लड़ाई (1761 ) :-

इसमे अंग्रेज जीत गये डच हार गये यही से डचो का भारत से साम्राज्य ख़तम हो गया

योगदान :-

मल्लका और कोरोमंडल के वीच व्यापारिक नेटवर्क स्थापित किया और इन्होने कासिम बाजार में रेशम के उत्पादन का कारखाना खोला था

व्यापारिक केंद्र :-

सूरत ,कोचीन ,नागपटनम, पुलिकत ,मसुलीपतनम , पिपिली(वगाल के इलाके में पहली कोठी ),

चिनसुरा ,कासिम बाजार , पटना , आगरा ,

  डेनिस

स्थापना :-   1616

*1676 में  सेरामपुर में अपना पहला मुख्यालय वनाया

*1845 में उन्होंने अपना सब कुछ  अग्रेजो को बेच दिया

फ्रेंच  कम्पनी

स्थापना :- 1664

*फ्रेंच कम्पनी का जब गठन हुआ था तो उस समय उहा का राजा लुई 14 वा था ये यूरोप के सबसे ताकतवर राजाओ में गिना जाता था

भारत में पहली कोठी :-   सूरत में 

दूसरी कोठी :- मसुलिपतनम  में 

*1673 में फ्रेंको मार्टिन ने पान्दुचेरी की नीव डाली यही 1674 में यहा का गवर्नर बना था

फ्रांसीसी केंद्र :-

1 सूरत ,2 पान्दुचेरी , 3 मसुलीपनम  , 4 चंद्रनगर (वगाल )

abhishekyadav

मेरा नाम अभिषेक यादव, में uppcs की तैयारी करता हूँ हम इस ब्लॉग पर uppcs के सारे विषय पर post डालता हूँ

Recent Posts

प्राचीन भारत में विदेशी आक्रमण | भारत पर यूनानी आक्रमण

प्राचीन भारत में विदेशी आक्रमण.. 1.ईरानी आक्रमण :- ईरान में एक वंश था हखमनी वंश जिसका राजा साइरस था भारतीय…

2 days ago

प्राचीन इतिहास प्रश्नोत्तरी | prachin itihas in hindi

प्राचीन इतिहास प्रश्नोत्तरी.... 1. हड़प्पाकाल का इनमें से कौन सा नगर, तीन भागों में विभाजित था? (a) Lothal/लोथल(b) Mohenjodaro/मोहेंजो दाड़ो(c)…

2 weeks ago

magadh samrajya | magadh samrajya ka uday | upsssc pet

magadh samrajya :- राजधानी - गिरिव्रज (राजगृह)शासक -बिम्बिसार (मगध का वास्तविक संस्थापक व् हर्यक वंश का प्रथम शासक , बुद्ध…

2 weeks ago

karak in hindi | कारक की परिभाषा ,उद्धाहरण सहित

कारक की परिभाषा :- karak in hindi.. वाक्य में जिससे संज्ञा ,सर्वनाम ,शब्दों का क्रिया के साथ सम्बन्ध बताया जाता…

2 weeks ago

whale vomit price | व्हेल की उलटी की कितनी कीमत है

whale vomit price.... * इसके एक किलो की कीमत 35 हजार पाउंड यानी 36 लाख रुपये से भी ज्यादा होती…

3 weeks ago

समास की सम्पूर्ण जानकारी | परिभाषा उदाहरण सहित और pdf

समास का शाब्दिक अर्थ :- समास की सम्पूर्ण जानकारी... संक्षेप ,सामानिक पद ,समस्त पद , सम्पूर्ण पद समास की परिभाषा…

3 weeks ago