अंग्रेजो का नस्लीय भेदभाव क्या था angrejo ka nasliy bhedbhav

अंग्रेजो का नस्लीय भेदभाव क्या था

अंग्रेजो का नस्लीय भेदभाव क्या  :- प्रशासन का ढाचा नस्लवादी था ,भारतीयों की भागेदारी बहुत कम थी ,1912 के बाद भागेदारी बढ़ी थी 

british का नस्लीय भेदभाव  :-

british शासन का नस्लवादी ढाचा था इसका मतलव क्या है -शासन में गोरे लोगो की प्रधानता को ही नस्लवाद कहते है जिसके तहत शासन के किसी भी विभाग की नियुक्ति हो चाहे सामान्य नोकरशाही की नियुक्ति हो और बड़े बड़े पद सिर्फ अंग्रेजो के लिए ही सीमित थे |

इस नस्लीय भेद के दो चरण है :-

अंग्रेजो का नस्लीय भेदभाव

  1. 1833 एक्ट के पहले तक भारतीयों की भागेदारी प्रतिबंधित थी 1833 के बाद प्रतिबंद तो हटा लेकिन भागेदारी फिर भी नहीं हुई 1912 के बाद भागीदारी में थोड़ी वृद्धि हुई
  2. की नस्लीय ढाचा प्रशासन की नियुक्तियों में ही काम नहीं कर रहा था वह सरकार की बैंकिंग संस्था जो थी वो भी लोन भारतीयों को नहीं देती थी भारत में कई सारे अंग्रेज भी थे जो निवेश कर रहे थे वो यदि लोन लेने जाते बैंको के पास तो उन्हें लोन डे दिया जाता था |

यहाँ तक की अंग्रेज अधिकारी हो या सेन्य अंग्रेज अधिकारी हो उन लोगो का भारतीय लोगो के प्रति व्यवहार भी नस्लीय था |

एक कहानी :-

दक्षिण अफ्रीका में मोहनदास करमचंद गांधी जी ट्रेन के A ग्रेड में टिकट कराकर उसमे बेठे लेकिन अंग्रेजो को ये बात नागवार लगी की एक इन्डियन हमारे साथ बेठेगा और मोहनदास करमचंद गांधी जी को वहाँ से उतरने के लिए कहा गया और उन्होंने मना कर दिया तो उनको उठा के ट्रेन से निचे फेख दिया गया |

एक कहानी :-

इण्डिया में लेजिस्लेटिव काउन्सिल था जो 1853 में बना था आगे जा कर इसमें भारतीय भी अपोइन्ट होने लगे थे इसमें प्रथम भारतीय थे गोपाल कृष्ण गोखले उस समय की बात है एक बार वो ट्रेन के A ग्रेट से सफ़र कर रहे थे अपना सामन रखे ट्रेन में और बाहर अपने दोस्तों से बात कर रहे थे इस वीच कुछ अंग्रेज अधिकारी उसी वोगी में आये की एक लगेज ऐसा है जो प्रथम द्रष्टि देखने से ही लगता है की ये भारतीय का है उन अंग्रेजो ने कहा हम भारतीयों के साथ सफ़र नहीं कर सकते है

और उसने अपने अर्दली को बुलाया कहा फेख दो इसका सामान बाहर और उसने फेख दिया ये सामान गोपाल कृष्ण गोखले का है जो लेजिस्लेटिव काउन्सिल के प्रथम भारतीय सदस्य थे ये बात जानते थे वहा बेठे ओफीसर तो उन्हीने फेकवाने बाले अधिकारी से कहा ये जो तुमने सामान बाहर फेकवाया हे ये सामान किसका है उस अंग्रेज ने बोला किसी भारतीय का है फिर ओफिसर बोला ये भारतीय लेजिस्लेटिव काउन्सिल का सदस्य है तो ये सुनकर उस अंग्रेज अधिकारी के छक्के छुट गये

उसे एक बात समझ आ गई की इस घटना के कारण एक बड़ा आन्दोलन भी हो सकता है तो वह अधिकारी खुद जा कर सामान ले आया

नस्लीय भेद की शुरुआत :-

इसकी शुरुआत लार्ड कार्नवालिस के काल में हुई इसके तहत यह बात कही गई की शासन के बड़े पद( 500 पोंड के ज्यादा )  सिर्फ अंग्रेजो को मिलेंगे

नस्लभेद का कारण :-

विजेता होने का स्वाभाविक अहम भाव नस्ल भेद का एक महत्वपूर्ण कारण था |

 

अवश्य पढ़े – चार्टर एक्ट 1833

1813 ka charter act in hindi चार्टर एक्ट 1813

चार्टर एक्ट 1793 चार्टर एक्ट क्या है

पिट्स इंडिया एक्ट pits india act 1784 in hindi

 

 

 

 

 

 

abhishekyadav

मेरा नाम अभिषेक यादव, में uppcs की तैयारी करता हूँ हम इस ब्लॉग पर uppcs के सारे विषय पर post डालता हूँ

View Comments

Recent Posts

प्राचीन इतिहास प्रश्नोत्तरी | prachin itihas in hindi

प्राचीन इतिहास प्रश्नोत्तरी.... 1. हड़प्पाकाल का इनमें से कौन सा नगर, तीन भागों में विभाजित था? (a) Lothal/लोथल(b) Mohenjodaro/मोहेंजो दाड़ो(c)…

1 week ago

magadh samrajya | magadh samrajya ka uday | upsssc pet

magadh samrajya :- राजधानी - गिरिव्रज (राजगृह)शासक -बिम्बिसार (मगध का वास्तविक संस्थापक व् हर्यक वंश का प्रथम शासक , बुद्ध…

1 week ago

karak in hindi | कारक की परिभाषा ,उद्धाहरण सहित

कारक की परिभाषा :- karak in hindi.. वाक्य में जिससे संज्ञा ,सर्वनाम ,शब्दों का क्रिया के साथ सम्बन्ध बताया जाता…

2 weeks ago

whale vomit price | व्हेल की उलटी की कितनी कीमत है

whale vomit price.... * इसके एक किलो की कीमत 35 हजार पाउंड यानी 36 लाख रुपये से भी ज्यादा होती…

2 weeks ago

समास की सम्पूर्ण जानकारी | परिभाषा उदाहरण सहित और pdf

समास का शाब्दिक अर्थ :- समास की सम्पूर्ण जानकारी... संक्षेप ,सामानिक पद ,समस्त पद , सम्पूर्ण पद समास की परिभाषा…

2 weeks ago

Today current affairs in hindi | pdf download 2021

Today current affairs in hindi.. question and answer [FAQ] 1.हाल ही में शिक्षा मंत्रालय द्वारा मध्याह्न भोजन योजना के तहत…

3 weeks ago